Tuesday, December 15, 2009

क्या और क्यों ?

अभी ये ना पूछो, मैं क्या कर रहा हूँ।

ये भी ना पूछो, मैं क्यों कर रहा हूँ।

अभी तो मुझी को कहाँ कुछ पता है।

अभी तो मैं खुद भी पता कर रहा हूँ,

मैं जो कर रहा हूँ,

वो क्यों कर रहा हूँ ?


तारों के सारों के आगे की दुनिया,

हकीकत से बढ़कर, खयालों की दुनिया।

दुनिया में, उस तक भी सिक्का जमा लूँ,

पता ग़र जो हो तो खुदा खोज डालूँ।

पता ही नहीं है कि क्या खोजता हूँ ।

अभी तो मैं खुद भी पता कर रहा हूँ,

कि जीवन में जीकर के,

क्या कर रहा हूँ ?


तुम्हारे सवालों मे दम तो है काफी,

गुज़ारिश मगर मेरी मुझको हो माफी।

तुम्हारी तरह ही पता मुझको होता,

चैन की नींद से मैं भी तो सोता।

करूँ क्या कि उतना गुणी मैं नहीं हूँ,

तभी तो वहाँ तुम और मैं तो यहीं हूँ।

अभी के लिये तो यही भर कहूँगा,

कि कभी-कुछ कभी-कुछ मैं करता रहूँगा।

जैसे ही ज़रा सा भी अहसास होगा,

सवालों का हल, जब मेरे पास होगा,

सबसे पहले तुम्हीं से कहूँगा,

मैं ये कर रहा हूँ,

इसलिये कर रहा हूँ।

अभी तो मैं खुद भी पता कर रहा हूँ,

मैं क्या कर रहा हूँ ?

मैं क्यों कर रहा हूँ ?

4 comments:

Anonymous said...

Subhaan allah.


Ek din jaldi he aayega beta
jo tujhko tere manjil ka pata chalega

Uss raha pe agar tu chal paaya
To log dhoondege khud main tere he chaaya

maana tu kachua sataya hua hai
khargoshon ke beech haara hua hai

par rukna nahin tu, thakna nahin tu
in khargoshon ke aage bus jhukna nahin tu

Dekh itehaas hai saath hamare
ki jo dheere chale wohi baazi maare


tu tan ke himaat se chale chale ja
aur logon ko yeh batata chala ja


ki apne sapnon ke peeche main badh raha hoon
apni raah main khud bunn raha hoon

mujhe to hai intezaar bus us din ka
jub tu charcha ka vishay banega

Hoga wo ek naya sawera
har kisi ki jubaan pe hoga naam tera

Fir tu bhi yeh shaan se kehna
main yeh karr raha hoon main wo karr raha hoon..ab mujhko pata hai main kya karr raha hoon


:)

monika said...

hey, deepu teri writings bahut touchy hoti hein. itne busy schedule me bhi mujhe sohane ko uksati hein. believe me great future is waiting for u. one day i will be known as a sis of a great writer. hope to be soon.
keep writing.

bhumika said...

Well said!! This is true for most of the cases. But who give thought to this, definitely find their way.
You have got great talent in your hands and mind.

Bhumika

Archit said...

Bhai... tumhe pata chale na chale ki tumhe kya karna hai.. lekin aisi kavitaye jaroor likhte rahna... :)